मुख्यपृष्ठ स्वास्थ्य कोरोना वायरस के लक्षण, इलाज और सावधानियां हिंदी में

कोरोना वायरस के लक्षण, इलाज और सावधानियां हिंदी में

लेखक: लेखसागर समूह
Coronavirus

कोरोनावायरस क्या है?

“कोरोनावायरस” नाम उनके सतहों पर मुकुट जैसे आकृतियों की वजह से पड़ा। लैटिन में “कोरोना” का अर्थ है “हेलो” या “क्राउन”।

कोरोनावायरस, वायरस का एक बड़ा परिवार है जो जानवरों या मनुष्यों में बीमारी का कारण हो सकता है। मनुष्यों में, कई कोरोनावायरस को सामान्य सर्दी-जुकाम से लेकर अधिक गंभीर बीमारियों जैसे मध्य पूर्व श्वसन सिंड्रोम (Middle East Respiratory Syndrome, MERS) और गंभीर तीव्र श्वसन सिंड्रोम (Severe Acute Respiratory Syndrome, SARS) जैसे श्वसन संक्रमणों का कारण माना जाता है। सबसे हाल ही में खोजे गए कोरोनावायरस का कारण कोरोनोवायरस रोग COVID-19 है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) द्वारा दिसंबर 2019 में फैले इस अज्ञात वायरस का नाम COVID-19 रखा गया है, जिसमे COVID कोरोनावायरस के परिवार का प्रतिनिधित्व करता है और 19 इसके खोज के वर्ष को प्रदर्शित करता है।

मनुष्यों में, कोरोनोवायरस संक्रमण अक्सर सर्दियों के महीनों और शुरुआती वसंत के दौरान होता है। कोरोनोवायरस के कारण लोग सर्दी-जुकाम से बीमार हो जाते हैं और लगभग 4 महीने बाद फिर से बीमार हो सकते हैं। और यह सिलसिला इसी प्रकार से काफी लम्बे समय तक चल सकता हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि कोरोनोवायरस एंटीबॉडी लंबे समय तक नहीं रहते हैं। इसके अलावा, एक विशिष्ट कोरोनोवायरस के लिए एंटीबॉडी दूसरे विशिष्ट कोरोनोवायरस के खिलाफ अप्रभावी हो सकती हैं।

कोरोनावायरस कहाँ से शुरू हुआ?

Wuhan China

शोधकर्ताओं ने पहली बार 1937 में एक कोरोनोवायरस पाया था। उन्होंने कोरोनोवायरस के कारण पक्षियों में एक संक्रामक ब्रोंकाइटिस वायरस पाया था जो मुर्गी पालन स्टॉक को नष्ट करने की क्षमता रखते थे।

वैज्ञानिकों ने पहली बार 1960 के दशक में कुछ लोगों की नाक में, जिन्हे सामान्य सर्दी-जुकाम था, मानव कोरोनावायरस (HCoV) के सबूत मिले। बड़ी मात्रा में आम सर्दी-जुकाम के लिए दो मानव कोरोनावायरस (HCoV) ही जिम्मेदार होते है, जिनका नाम OC43 और 229E हैं।

पिछले 70 वर्षों में, वैज्ञानिकों ने पाया है कि कोरोनावायरस चूहों, कुत्तों, बिल्लियों, घोड़ों, सूअरों और मवेशियों को संक्रमित कर सकते हैं। कभी-कभी, ये जानवर कोरोनावायरस को मनुष्यों में पहुंचा सकते हैं। हाल ही में, अधिकारियों ने चीन के वुहान में एक नए कोरोनोवायरस प्रकोप की पहचान की जो अब अन्य देशों में पहुंच गया है। इसे कोरोनावायरस बीमारी 2019, या COVID-19 नाम दिया गया है। यह नया वायरस और बीमारी, दिसंबर 2019 में चीन के वुहान में फैलने से पहले अज्ञात थी।

कोरोनावायरस के लक्षण

सर्दी-या फ्लू जैसे लक्षण आमतौर पर कोरोनोवायरस संक्रमण के 2-4 दिनों के बाद से होते हैं और आमतौर पर हल्के होते हैं। हालांकि, लक्षण व्यक्ति-से-व्यक्ति भिन्न होते हैं, और कुछ प्रकार के कोरोनावायरस बहुत घातक भी साबित हो सकते है। जैसा की COVID-19 वायरस भी कोरोनावायरस का ही एक प्रजाति है परन्तु यह नया और अज्ञात होने के कारण बहुत घातक साबित हो रहा है और दुनिया त्राहि-त्राहि कर रही है।

लक्षणों में शामिल हैं:

  • छींक आना
  • बहती नाक
  • थकान
  • खांसी
  • दुर्लभ मामलों में बुखार
  • गले में खराश
  • तेज अस्थमा

कोरोनावायरस-2019 कैसे फ़ैलता है?

Sneeze

स्वस्थ लोग, संक्रमित लोगों से COVID -19 से संक्रमित कर सकते हैं। यह बीमारी खांसी या छींक की वजह से नाक या मुंह से छोटी बूंदों के माध्यम से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल सकती है। ये बूंदें व्यक्ति के आसपास की वस्तुओं और सतहों पर उतरती हैं। अन्य लोग तब इन वस्तुओं या सतहों को छूकर, फिर अपनी आँखों, नाक या मुंह को छूकर COVID -19 से संक्रमित हो जाते हैं। यही कारण है कि बीमार या संक्रमित व्यक्ति से 1 मीटर (3 फीट) से अधिक दूर रहना महत्वपूर्ण है।

कोरोनावायरस-2019 के इलाज & सावधानियां

चूँकि COVID-19 का वर्तमान में कोई इलाज नहीं है, बीमारी को रोकने का सबसे अच्छा तरीका इस वायरस के संपर्क में आने से बचना है। आप कुछ साधारण सावधानियां बरतकर COVID -19 के संक्रमित होने या फैलने की संभावनाओं को कम कर सकते हैं:

  • अपने हाथों को अल्कोहल-आधारित हैंड रब से नियमित रूप से और अच्छी तरह से साफ करें या उन्हें साबुन और पानी से धोएं। अपने हाथों को साबुन और पानी से धोना या अल्कोहल-आधारित हाथ रगड़ना उन वायरस को मारता है जो आपके हाथों पर हो सकते हैं।
  • कम से कम 1 मीटर (3 फीट) की दूरी पर अपने आप को और किसी को भी, जो खांसी या छींक रहा है, के बीच दूरी बनाए रखें। जब किसी को खांसी या छींक आती है तो वे अपनी नाक या मुंह से छोटी तरल बूंदें छिड़कते हैं जिसमें वायरस हो सकता है। यदि आप बहुत करीब हैं, तो आप खांसी में सांस ले सकते हैं, जिसमें COVID-19 वायरस भी शामिल है यदि खांसी करने वाले व्यक्ति को यह बीमारी है।
  • आंखों, नाक और मुंह को छूने से बचें। हाथ कई सतहों अथवा चीजों को छूते हैं और वायरस के संपर्क में आ सकते है। एक बार दूषित होने पर, हाथ वायरस को आपकी आंखों, नाक या मुंह में स्थानांतरित कर सकते हैं। वहां से, वायरस आपके शरीर में प्रवेश कर सकता है और आपको बीमार कर सकता है।
  • सुनिश्चित करें कि आप, और आपके आस-पास के लोग, अच्छी श्वसन स्वच्छता का पालन करें। इसका मतलब है खांसी या छींक आने पर अपनी मुड़ी हुई कोहनी या रुमाल से अपने मुंह और नाक को ढँक ले। जैसा की हमने बताया खांसी या छींक की बूंदों से वायरस फैलता है। अच्छी श्वसन स्वच्छता का पालन करके आप अपने आसपास के लोगों को सर्दी, फ्लू और COVID-19 जैसे वायरस से बचाते हैं।
  • यदि आप अस्वस्थ महसूस करते हैं तो घर पर रहें। यदि आपको बुखार, खांसी और सांस लेने में कठिनाई है, तो चिकित्सा पर ध्यान दें और पहले से डॉक्टर से अपॉइंटमेंट लें। अपने स्थानीय स्वास्थ्य प्राधिकरण के निर्देशों का पालन करें। आपके क्षेत्र की स्थिति की जानकारी के लिए राष्ट्रीय और स्थानीय अधिकारियों के पास सबसे अधिक सटीक जानकारी होगी। एडवांस में अपॉइंटमेंट से आपका स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता आपको जल्दी से सही स्वास्थ्य सुविधा के लिए निर्देशित कर सकेगा। यह आपकी रक्षा भी करेगा और अन्य संक्रमणों को फैलने से रोकने में मदद करेगा।
  • COVID-19 के बारे में नवीनतम घटनाओं से अवगत रहें। अपने स्वास्थ्य सेवा प्रदाता, अपने राष्ट्रीय और स्थानीय सार्वजनिक स्वास्थ्य प्राधिकरण या अपने नियोक्ता द्वारा COVID -19 से खुद को और दूसरों की रक्षा करने के लिए दी गई सलाह का पालन करें। आपके क्षेत्र में COVID-19 फैल रहा है या नहीं, इस पर राष्ट्रीय और स्थानीय अधिकारियों को सबसे अधिक जानकारी होगी।
  • नवीनतम COVID-19 हॉटस्पॉट (शहर या स्थानीय क्षेत्र जहां COVID-19 व्यापक रूप से फैल रहा है) पर के बारे में जानकारी हासिल करते रहें। यदि संभव हो, तो इन स्थानों की यात्रा करने से बचें – खासकर यदि आप एक बुजुर्ग व्यक्ति हैं या आपको मधुमेह, हृदय या फेफड़ों की बीमारी है।

यदि आप संक्रमित क्षेत्र की यात्रा करके लौटें है तब क्या करना चाहिए?

उन लोगों के लिए सुरक्षा उपाय जो हाल ही में (पिछले 14 दिनों के) क्षेत्रों में गए हैं, जहां COVID-19 फैल रहा है –

  • ऊपर दिए गए मार्गदर्शन का पालन करें (सभी के लिए सुरक्षा उपाय)
  • जब तक आप ठीक न हों, हल्के लक्षणों जैसे कि सिरदर्द, निम्न दर्जे का बुखार (37.3 C या इससे अधिक) और हल्की नाक बहना, तब तक घर पर रहकर स्वयं को अलग-थलग कर लें, जब तक आप ठीक नहीं हो जाते।
  • यदि आपको बाहर जाना आवश्यक है तो मास्क लगाकर जाएँ।
  • यदि आपको बुखार, खांसी और सांस लेने में कठिनाई होती है, तो तुरंत चिकित्सीय सलाह लें क्योंकि यह श्वसन संक्रमण या अन्य गंभीर स्थिति के कारण हो सकता है।
  • अपने डॉक्टर से एडवांस में ही कॉल करके अपॉइंटमेंट लेलें ताकि संक्रमण पाए जाने पर इलाज में कोई देरी न हो।

कितना खतरनाक है यह?

नए कोरोनोवायरस जो पहली बार चीन में पाए गए थे और जो अब भारत सहित अंतरराष्ट्रीय स्तर पर लगभग 70 स्थानों पर पाए गए हैं। वायरस को “SARS-CoV-2” नाम दिया गया है और इसके कारण होने वाली बीमारी को “कोरोनावायरस रोग 2019” (संक्षिप्त “COVID-19”) नाम दिया गया है। 30 जनवरी, 2020 को, विश्व स्वास्थ्य संगठन की अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य विनियम आपातकाल समिति ने प्रकोप को “public health emergency of international concern” (PHEIC) घोषित किया।

इस वायरस से पूरी दुनिया में 3,200 से ज्यादा लोग मारे गए और लगभग एक लाख से ज्यादा लोग इससे संक्रमित है। और यह सब सिर्फ दो महीने से भी कम समय में हुआ है। भारत में सबसे पहले इस वायरस का मामला केरल में पाया गया था परन्तु वहां सब सामान्य होने के बाद यह अब देश की राजधानी दिल्ली और एनसीआर में अपना प्रकोप दिखा रहा है। केवल तीन ही दिन में करीब 30 से ज्यादा लोगों को COVID-19 से संक्रमित पाया गया।

आने वाले दिनों में COVID-19 के अधिक मामलों की पहचान होने की संभावना है, जिसमें भारत में और मामले भी शामिल हैं। यह भी संभावना है कि भारत में समुदायों सहित व्यक्ति-से-व्यक्ति प्रसार जारी रहेगा। और यह भी संभावना है कि किसी भी समय भारत में COVID-19 का व्यापक प्रसारण हो सकता है। COVID-19 के व्यापक प्रसारण से बड़ी संख्या में लोगों को एक ही समय में चिकित्सा देखभाल की आवश्यकता होगी। स्कूल, चाइल्डकैअर केंद्र, कार्यस्थल और सामूहिक समारोहों के लिए अन्य स्थानों पर अधिक उपकरणों की अनुपस्थिति का अनुभव हो सकता है। सार्वजनिक स्वास्थ्य और स्वास्थ्य व्यवस्थाएँ अतिभारित हो सकती हैं, तथा अस्पतालों में मौतों की उच्च दर भी परिणाम हो सकती है। अन्य महत्वपूर्ण अवसंरचना, जैसे कानून प्रवर्तन, आपातकालीन चिकित्सा सेवाएं और परिवहन उद्योग भी प्रभावित हो सकते हैं।

कोरोनावायरस से बचाव हेतु सरकार द्वारा उठाए हुए कदम

स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा कि सरकार कोरोनोवायरस के प्रसार को रोकने के लिए सभी कदम उठा रही है और भारत में बढ़ती स्थिति के साथ निगरानी में 28,529 लोगों को लाया गया है।

प्रधानमंत्री नियमित रूप से तैयारियों और प्रतिक्रिया की निगरानी कर रहे हैं और स्थिति की निगरानी के लिए मंत्रियों का एक समूह गठित किया गया है। वर्तमान में, सभी नियमित (स्टीकर) वीजा / ई-वीजा (जापान और दक्षिण कोरिया के लिए आगमन पर वीजा सहित) इटली, ईरान, दक्षिण कोरिया, जापान के नागरिकों के लिए, तत्काल प्रभाव से निलंबित करने का निश्चय किया है।

इसके अलावा, 5 फरवरी को या उससे पहले जारी किए गए चीन के नागरिकों को दिए गए वीजा को पहले निलंबित कर दिया गया था।

भारतीयों को चीन, ईरान, दक्षिण कोरिया, इटली और जापान की यात्रा न करने की सलाह दी गई है। देश में आने वाले सभी अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के लिए यूनिवर्सल स्क्रीनिंग की जा रही है।

647 भारतीय सहित सभी 654 व्यक्तियों को कोरोनोवायरस उपकेंद्र वुहान से वापस ले आया गया। जापान के पोर्ट योकोहामा के COVID -19 संक्रमित क्रूज शिप डायमंड प्रिंसेस से सभी 124 से निकासी हुई तथा निकाले हुए सभी भारतीय असंक्रमित है और स्थिर हैं।

पुणे प्रयोगशाला के अलावा, 15 और प्रयोगशालाओं में COVID-19 के ​​नमूनों का परीक्षण भी शुरू किया गया है। 19 और नए प्रयोगशालाओं को देश भर में नमूनों का परीक्षण करने के लिए तैयार किया जा रहा है।

आगे क्या?

WHO की वेबसाइट पर और अपने राष्ट्रीय और स्थानीय सार्वजनिक स्वास्थ्य प्राधिकरण के माध्यम से उपलब्ध COVID -19 प्रकोप की नवीनतम जानकारी से अवगत रहें। दुनिया भर के कई देशों ने COVID-19 के मामलों को देखा है और कई ने प्रकोप देखा है। चीन और कुछ अन्य देशों के अधिकारियों ने अपने प्रकोप को धीमा करने या रोकने में सफलता प्राप्त की है। हालाँकि, स्थिति अप्रत्याशित है इसलिए नवीनतम समाचारों के लिए नियमित रूप से अवगत रहें।

Leave a Comment